राइटिंग सुधारने का तरीक़ा। Good Handwriting In Hindi

हेलो फ्रेंड नमस्कार आपका Bataiye में स्वागत है। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से बात करने वाले हैं। गुड हैंडराईटिंग (Good handwriting) इन हिंदी, य अपनी राइटिंग (handwriting) कैसे सुधारे? कैसे बच्चों की लिखावट में सुधार करें? आज हम आपके साथ hindi handwriting एनी लिखावट के बारे में बताने जा रहे हैं। अच्छी लिखावट कैसे करें? और आने वाले एग्जाम में आप अच्छे अंको से सफल हो सके. यदि आपकी हैंडराइटिंग अच्छी है तो पेपर जांचने में कोई दिक्कत नहीं होने वाली है। आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें। आपके लिए यह अनुभवी पोस्ट हो सकती है।

Good handwriting in hindi
Good handwriting in hindi

अच्छी लिखावट विकसित कैसे करे (Good handwriting)

लिखावट (handwriting) किसी भी इंसान का पहला इम्प्रैशन होती हैं। बेशक आज Computer ने इंसान के काम को कम ज़रूर कर दिया हैं, लेकिन फिर भी हम लिखना (handwriting) कभी नहीं छोड़ते, फिर चाहे वह स्कूल में हो, कॉलेज में हो, या फिर किसी ऑफिस (Office) में हो, लिखने का काम हम सभी को पड़ता हैं। इसलिए हम सभी का लिखना हमेशा जारी रहता है। ऐसे में अच्छी लिखावट (handwriting) का होना बहुत ज़्यादा ज़रूरी हैं, जो आपके लिए तो अच्छी बात है ही साथ ही और लोगों के लिए भी फायदेमंद हैं।

आपके बच्चे को डेस्क पर बैठने और handwriting बनाने के लिए सभी आवश्यक घटक हैं। हम आम तौर पर इस बारे में नहीं सोचते हैं कि लिखावट (handwriting) के उभरने के लिए कितने तत्वों (The Elements) की आवश्यकता है। लेकिन जब उन तत्वों में से एक या अधिक अनुपस्थित होते हैं, तो आपके बच्चे को लिखित (written record) कक्षा असाइनमेंट के साथ लिखना और रखना एक दुखी समय हो सकता है।

यह आश्चर्यजनक है कि बहुत सारे असतत हिस्से हैं जो लिखावट कौशल (Handwriting skills) की नींव बनाते हैं। उपर्युक्त घटकों के अलावा, एक बच्चे को अच्छी योजना, अच्छे दृश्य कौशल, अच्छी स्थानिक जागरूकता, अच्छे अवधारणात्मक कौशल, अच्छे संवेदी एकीकरण और अच्छे कार्यकारी कामकाज की भी आवश्यकता होती है।

यह महत्त्वपूर्ण है कि वे अपने हाथों का स्वतंत्र रूप से या एक साथ उपयोग करने में सक्षम हों और मिडलाइन को पार करने में सक्षम हों (दाएँ से बाएँ या इसके विपरीत) । लिखावट Handwriting का एक महत्त्वपूर्ण तत्व हाथ की मेहराब का निर्माण है।

सही ढंग से पेन पकड़ने के लिए (Correctly hold the pen)

पेंसिल (Pencil) या पेन को सही ढंग से पकड़ने के लिए हाथ की मेहराब को अच्छी तरह से बनाना पड़ता है। मेहराब को हाथों की हथेली में क्रीज / रेखाओं द्वारा परिभाषित किया जाता है। ये वे पंक्तियाँ हैं जो भाग्य टेलर दावा करते हैं कि प्रेम, विवाह और जीवन प्रत्याशा निर्धारित (Life expectancy set) करते हैं।

जब आप अपने हाथ को देखते हैं, तो आपको तीन प्रमुख घटते दिखाई देते हैं-एक हथेली (The palm) के आर-पार, मध्यमा के बारे में, एक हाथ के अंगूठे से और दूसरी तरफ़ पिंकी उंगली की तरफ़ कलाई के पास पैड से। वे एक त्रिकोण (Triangle) बनाते हैं जो हमें अपनी उंगलियों को एक साथ लाने, हमारे हाथों को कप देने और वस्तुओं को हाथ के भीतर ले जाने में सक्षम बनाता है।

अच्छी मांसपेशी विकास के गठन में योगदान देता है। हाथों की मांसपेशियाँ (The muscles) या तो बाहरी हैं, या आंतरिक। बहिर्मुखी मांसपेशियाँ अग्र-भुजाओं में उत्पन्न होती हैं और इन पेशियों की टेंडन कलाई को पार करके हाथ में सम्मिलित होती हैं। जब आप अपनी उंगलियों को पकड़ते हैं तो आप टेंडन को हिलते हुए देख सकते हैं। आंतरिक मांसपेशियाँ (The muscles) हाथ के भीतर समाहित होती हैं। ये मांसपेशियाँ (The muscles) हाथ की कुशलता प्रदान करने के लिए हड्डियों, टेंडन और लिगामेंट्स के साथ मिलकर काम करती हैं।

हाथ के कौशल पक्ष का निर्माण (Build skill side)

अब जैसे ही बच्चे विकसित होते हैं, हाथ के कौशल की रूपरेखा (The Outline) विकास के प्राकृतिक कार्य के रूप में होती है। बच्चे शुरू में अपने अग्र-भुजाओं पर चलते हैं, फिर हाथों को आगे बढ़ाने के लिए धक्का देते हैं और अंत में चारों तरफ़ रेंगने के लिए संक्रमण करते हैं। इन सभी पदों और विकासात्मक मील (Developmental mile) के पत्थरों को भार वहन की आवश्यकता होती है।

हाथों पर भार रखने से मांसपेशियों को मज़बूत करने और कण्डरा और स्नायुबंधन को मज़बूत करके Arch development में सुधार होता है। दिलचस्प बात यह है कि अधिकांश कार्यों के लिए हमें केवल अंगूठे और हाथ की पहली दो उंगलियों की आवश्यकता होती है। ये तीनों हाथ के कौशल पक्ष का निर्माण (Build skill side) करते हैं।

अंगूठी और पिंकी उंगलियाँ मूल रूप से समझ और शक्ति के लिए उपयोग की जाती हैं, जैसे कि जब हम बाल्टी जैसी भारी वस्तुओं को ले जाते हैं। हाथ की स्किल साइड पेन्सिल पकड़ने (Skill Side Pencil Catch) , लेस बाँधने, कपड़ों को बटन लगाने, ज़िपिंग ज़िप करने आदि के लिए ज़िम्मेदार होती है। हम इन चीजों को अंगूठे और पहली दो उंगलियों से करने में सक्षम होते हैं क्योंकि हैंड आर्क हमें फिंगर टिप को अंगूठे तक लाने में सक्षम बनाता है।

लेखन कार्यों के लिए (For writing tasks)

यदि आपके बच्चे या बच्चे ने विकास के कुछ चरणों को याद किया है, या उन्हें आदर्श की तुलना में बाद में हासिल किया है, तो संभव है कि पूर्व-लेखन और लेखन कार्यों (Pre-writing and writing tasks) के लिए उन्हें कुछ अतिरिक्त मदद की आवश्यकता होगी।

Read the post:- Who are you Hindi meaning

विकासात्मक देरी वाले बच्चे और कम टोन वाले लोग अक्सर वज़न वहन करने वाले पदों को याद करते हैं जो कि अच्छे हाथों के विकास के लिए महत्त्वपूर्ण हैं। इसके अतिरिक्त, इन विकासात्मक मील के पत्थरों के लापता होने से मांसपेशियों की ताकत और स्वर खराब हो सकते हैं।

Read:- English sikhne ka tarika bataye hindi me

आपके बच्चे को डेस्क पर अच्छी मुद्रा बनाए रखने में परेशानी हो सकती है, या आसानी से थकान हो सकती है। खराब विकसित हाथ मेहराब और कम टोन का मतलब यह भी हो सकता है कि उनके पास एक Pencil समझ विकसित करने में मुश्किल समय होगा। इन मुद्दों वाले बच्चे अक्सर बहुत कठिन दबाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप हाथ और हाथ में असुविधा होती है, या पर्याप्त कठोर नहीं दबाते हैं।

अच्छी लिखावट विकसित करना (Develop good handwriting)

माता-पिता या देखभाल करने वाले के रूप में सबसे अच्छी बात यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके बच्चे के पास एक आसान समय है जो अच्छी लिखावट कौशल (Handwriting skills) विकसित करना है, उन्हें मज़बूत बनाकर तैयार करना है। उन्हें एक व्यायाम कार्यक्रम में शामिल करें, या उन्हें भौतिक और / या व्यावसायिक चिकित्सा के लिए मूल्यांकन (Evaluation) किया है। जब आप समय बिताएंगे तो उन्हें मज़बूत होने में मदद मिलेगी जब वे स्कूल में होंगे।

यह एक अच्छी लिखावट कौशल (Handwriting skills) के लिए महत्त्वपूर्ण रूप से महत्त्वपूर्ण है। एक अच्छा हाथ लेखन कौशल (Writing skills) होने पर अपना ध्यान केंद्रित करना केवल छात्रों के लिए नहीं छोड़ा जाना चाहिए। ज़रूर! छात्रों को अपने ट्यूटर्स या शिक्षकों से सम्बंधित होने के लिए अच्छे लेखन कौशल (Writing skills) की आवश्यकता होती है,

खासकर जब परीक्षा लिखते (Write the exam) हैं और क्रमशः बेहतर ग्रेड (better grades) और बेहतर समझ के लिए नोट्स लेते हैं। लेकिन इस सरल कौशल को प्राप्त करने का प्रयास केवल छात्रों के लिए छोड़ दिया जाता है? यदि आप अपनी लिखावट (Handwriting) कौशल को सुधारने की आवश्यकता देखते हैं तो आपको निम्नलिखित की आवश्यकता होगी

अपनी लिखावट कौशल को सुधारना (Improve your handwriting)

A. विभिन्न फोंट में घसीट के नमूने, B. एक क़लम या पेंसिल, C. शासित कागज, D. एक वैकल्पिक सामग्री एक टेप है

  1. तय करें कि आप अपनी लिखावट (Handwriting) कैसे देखना चाहते हैं। सरसरी नमूनों का अध्ययन करें और विभिन्न फोंट देखें
  2. काग़ज़ की एक शीट के शीर्ष पर एक नमूना सेटिंग्स लिखें, सावधानीपूर्वक आपके द्वारा चुने गए श्रवण नमूने का अनुकरण करें। एक चुने हुए फ़ॉन्ट में वाक्य को प्रिंट करें और इसे काग़ज़ की एक पंक्ति में टेप करें।
  3. एक क़लम या पेंसिल (Pencil) का चयन करें जो आपके हाथ में अच्छा लगता है; फिटनेस, ग्रिप पर विचार करें और यह एक पृष्ठ पर कितनी अच्छी तरह से चलता है। अपने यंत्र को बहुत कसकर न पकड़ें।
  4. वाक्य को बार-बार कॉपी करें। लेखन शैली में महारत हासिल करने के लिए व्यक्तिगत पत्रों का अभ्यास करें। अभ्यास करते समय अपनी गर्दन, कंधे और भुजाओं को शिथिल रखें।
  5. विभिन्न अक्षरों के साथ एक नया वाक्य चुनें और उस वाक्य को कॉपी करने का अभ्यास करें।
  6. अन्य क़लम और पेंसिल के साथ अभ्यास करें जब आप इस लेखन शैली के साथ सहज हो गए। सुनिश्चित करें, आप इस प्रक्रिया को तब तक जारी रखते हैं जब तक आपको लगता है, आप बहुत अच्छी और अच्छी तरह से विभिन्न पेंसिल और / या क़लम के साथ मुक्त-प्रवाह लेखन के लिए अनुकूलित हैं।
  7. अपनी लिखावट (Handwriting) को एक ऐसी शैली में बदलिए जिस पर आप गर्व कर सकते हैं। आप कभी भी कंप्यूटर पर वापस नहीं जा सकते।

लिखावट सुधारने के तरीके, (Ways to improve handwriting)

Handwriting प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में बहुत महत्त्व रखती है, चाहे वह स्कूल कॉलेज हो या फिर आपका कार्यक्षेत्र सभी जगह अच्छी Handwriting का होना बहुत ही महत्त्वपूर्ण है। हैंडराइटिंग एक ज़रिया भी होती है अपनी बात दुसरो तक पहुचाने का, जब आप अच्छा लिखेंगे तभी दुसरे पक्ष तक आपकी बात पहुँच पाएगी।

Read the post:-कैसे बात करे?

Read the post:-गुड मॉर्निंग मैसेज इन हिन्दी फॉर व्हाट्सएप्प

किन्तु यदि Handwriting स्पष्ट और पढ़ने योग्य नहीं है, तो आपकी बात दुसरे पक्ष तक नहीं पहुच पाएगी। अच्छी के लिए, Handwriting जब आप सही देखेंगे और सही बोलेंगे और सही उच्चारण करेंगे, तभी उसे अच्छे से लिख पायेंगें। अच्छी Handwriting लिखने के लिए हमे बस कुछ छोटी-छोटी बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए.

लिखने के लिए कुछ महत्त्वपूर्ण टिप्स (Tips for writing)

शुद्धलेखन का अभ्यास (Practice of pure writing) :-अच्छी Handwriting बहुत प्रयास के बाद ही आदत में आती हैं, इसके लिए ज़रूरी हैं कि आप लिखने का बार-बार अभ्यास करे। आप शुद्धलेखन के बारे में तो जानते ही हैं, यह लिखावट को सुधारने (Improve handwriting) का सबसे अच्छा उपाय हैं। आप अखबार, पत्रिका या किसी भी पुस्तक में से देख कर लिखने की आदत डाले, क्योंकि इनमे मात्राओं की अशुद्धि भी नहीं होती है। शुद्ध लेखन की आदत डलने से Handwriting में निश्चित तौर पर सुधार होगा।

अक्षरों को पूरा लिखे (Complete the letters) :-अच्छी Handwriting लिखने का सबसे पहला नियम यह है कि प्रत्येक अक्षर को पूरा एवं सही लिखे। जल्दबाजी में अधूरे अक्षर या ग़लत लिखने से Handwriting कभी भी अच्छी नहीं आएगी, बल्कि आपकी बात का अर्थ बदल जायगा।

Read:-agregi kaise sikhe- sikhne ka asaan tarika

शब्दों की स्थिरता का ध्यान रखे (Attention to the stability of words) :-जब भी लिखना शुरू करे तो, यह सबसे ज़्यादा ज़रूरी है कि आपकी लिखावट (Handwriting) के शब्द और अक्षर सही स्थिती में हो, यह टेढे-मेढ़े नहीं होना चाहिए, क्योंकी अगर आपकी लिखावट (Handwriting) सीधी नहीं है तो यह पढ़ने और समझने में बहुत मुश्किल होगी। साथ ही यह देखने में भी अच्छा नहीं लगेगा।

लिखावट कैसे सुधारे (How to improve handwriting)

निश्चित दूरी बनाये रखे (Keep a certain distance) :-एक अच्छी और आकर्षक लिखावट (Handwriting) के लिए यह सबसे ज़्यादा ज़रूरी है कि आपके लिखे अक्षरों एवं शब्दों के बीच एक निश्चित दूरी हो, जिस से की उनका अर्थ सार्थक हो सके. यदि आप अक्षर अवं शब्दों के बीच में निश्चित दूरी नहीं रखेंगे तो ये असमान दूरी वाक्य का अर्थ भी बदल सकती हैं और आपकी लिखावट में बहुत सारी त्रुटियाँ हो जायगी।

शब्दों का आकार (Word size) :-अक्षर का सामान्य आकार का होना भी एक अच्छी लिखावट की निशानी है। लिखावट (Handwriting) न तो बहुत छोटी होना चाहिए जो की नज़र भी न आयें और ना ही ज़रूरत से ज़्यादा बड़ी होनी चाहिए, जो देखने में अच्छी ना लगे। अक्षरों एवं शब्दों का आकार सामान्य होना चाहिए जो पढ़ने में आसान हो।

पेन या पेंसिल की स्थिती (Pen or pencil position) :-सुन्दर लिखावट (Handwriting) चाहते हैं तो पेन या पेन्सिल को बहुत अधिक कस कर या ज़रूरत से ज़्यादा ढीला न पकडे, इस पर अपनी पकड़ सामान्य रूप से बनाये रखे, जो कि आपको अच्छी राइटिंग लिखने में मदद करेगा। पेन या पेंसिल को बहुत अधिक नीचे या ज़्यादा ऊपर से नहीं पकड़ना चाहिए, एक निशिचित दूरी से पकड़ना चाहिए।

ज्यादा से ज़्यादा ख़ुद लिखे (Write as much as possible) :-यदि आप अच्छी हैंडराइटिंग चाहते हैं तो टाइप करना या किसी की सहायता लेकर लिखने से बचें, क्योंकी आप जितना अधिक अपने हाथो से लिखेंगे आपकी लिखावट (Handwriting) उतनी ही अधिक सुन्दर होगी। लिखने की आदत को हमेशा बनाये रखे। वैसे भी मशीनों के युग में लिखने की आदत छुटती जा रही हैं। नियमित रूप से लिखने की आदत आपकी (Handwriting) को ज़रूर सुधरेगी। नियमित रूप से लिखने के लिए थोड़ा-सा समय अवश्य निकले जिस से की आपकी हैंडराइटिंग हमेशा आकर्षक बनी रहेगी।

अच्छी लिखावट के लिए (For good handwriting)

सामग्री की गुणवत्ता पर ध्यान दे (Attention to content quality) :-लिखने के लिए हमेशा अच्छा पेन उपयोग में ले, पेन के विषय में हर किसी की पसंद अलग-अलग हो सकती है, लेकिन बस इतना ध्यान रखे कि जो पेन या पेंसिल आपको आरामदायक लगे, उसी का उपयोग करे। उसी प्रकार जिस पर लिख रहे है, वह काग़ज़ भी अच्छी गुणवत्ता का होना चहिये। जिस पर आपकी लिखावट (Handwriting) साफ़ एवं स्पष्ट तथा सुन्दर दिखे।

अक्षरों के मूल आकार को बनाये रखे (Draw the original letter size) :-लिखने के दौरान शब्दों के मूल आकर को बनाये रखे, उस से छेड़-छाड़ न करे, उसे परिवर्तित करने की कोशिश ना करे। क्योंकि प्रत्येक अक्षर का एक पूर्वनिर्धारित आकार है और वह उसी रूप में अच्छा भी लगता है, अक्षरों को मन मुताबिक आकार देने की कोशिश ना करे।

Read:- इंग्लिश का अर्थ हिन्दी में बताइए

जल्दबाजी न करे (Do not be hasty) :-शुरुवात में अक्षरों के मूल रूप को बनाये रखने के लिए धीरे-धीरे लिखे, जल्दबाजी ना करे क्योंकि जल्दबाजी में अक्षर अच्छे नहीं आते और जब आपको मूलरूप में लिखने की आदत हो जायगी तो आपकी स्पीड अपने आप बढ़ने लगेगी और एक बार जब सही लिखने की आदत हो जायगी तो हम जल्दी लिखने पर भी सही ही लिखेंगे। एकाग्रता पूर्वक लिखे, लिखते वक़्त सिर्फ़ विषय पर ध्यान दें।

गुड हैंडराइटिंग के लिए (Good handwriting)

स्थिती का ध्यान रखे (Take care of position) :-यह भी ज़रूरी है कि आप किस स्थिती में लिख रहे है मतलब आप जिस सतह पर लिख रहे है वह बिलकुल समतल हो, आपके हाथ का निचला हिस्सा टेबल या सतह से सटा हो, जिस से की आपके हाथ के नीचे आधार बना रहेगा। इन सब वस्तुओं के अलावा हम किस स्थिती में बैठ कर लिख रहे है ये भी बहुत मायने रखता है, अत: हमेशा सही एवं स्थिर बैठ कर ही लिखें।

सफाई का विशेष ध्यान रखे (Take special care of cleanliness) :-लिखावट (Handwriting) का सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण गुण है सफाई. सफ़ाई से लिखी हुई लिखावट (Handwriting) पढ़ने में आसान होती है साथ ही सुन्दर भी दिखती है। कोशिश करें कि लिखते समय कम से कम शब्दों की काट-पिटी करें, अगर कुछ ग़लत हो भी गया है तो उस पर सिर्फ़ एक सिंगल लाइन फेर दे, पढ़ने वाला या देखने वाला ये बात ज़रूर समझ जायगा की यह शब्द ग़लत है या इसे नहीं पढना है।

लाइन का ध्यान रखे (Take care of the line) :-अच्छी हैंडराइटिंग (Handwriting) के लिए हमेशा लाइन पर ही लिखे, लाइन के ऊपर या नीचे लिखे शब्द व्यवस्तिथ नहीं लगते, ये बेतरतीब दिखते हैं और पढ़ने में भी परेशानी होती है।

बहुत अधिक ज़ोर देकर नहीं लिखे (Do not write too loudly) :-लिखते समय पेन या पेंसिल की निप को (पॉइंट) को बहुत अधिक गढ़ा कर नहीं लिखे, ऐसा करने से पेज पेन एवं लिखावट (Handwriting) ख़राब होती है। इन छोटी-छोटी बातों को ध्यान में रख कर ही हम हैण्डराइटिंग को सुन्दर एवं आकर्षित बनाये रख सकते हैं।

पोस्ट निष्कर्ष

दोस्तों आपने इस पोस्ट के माध्यम से जाना है कि लिखावट में कैसे सुधार कर सकते हैं? तथा हम अपनी हैंडराइटिंग को सही, Good handwriting) कैसे बना सकते हैं? आशा है आपने ऊपर दी जानकारी को पढ़ा और आपको ज़रूर अनुभव हुआ होगा। आप अपने बच्चों के साथ भी है अनुभव शेयर कर सकते हैं। पोस्ट पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद और अधिक पोस्ट पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

Read the post:-

Hindi mein kaise likha jata ha computer me

नीड मीनिंग इन हिन्दी Sentences

Aur bataiye kya likhu?

Spread the love
  • 2
    Shares

2 thoughts on “राइटिंग सुधारने का तरीक़ा। Good Handwriting In Hindi”

  1. Pingback: ऑनलाइन पढ़ाई कैसे करें बताइए क्या कर सकते हैं? Online padhai - Bataiye

  2. Pingback: Hindi to bengali kaise sikhe, हिन्दी टू बंगाली - Bataiye

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − fourteen =

Scroll to Top